Tuesday, April 16, 2013

चुचौं, कन फीरिन ई रोट्टी तुम तैं।















कोदै रोंदी,ढबाड़ी रोंदी,भरीं छोट्टी-मोट्टी तुम तैं , 
हे पहाड़ियों ! चुचौं, कन फीरिन ई रोट्टी तुम तैं।  

छछेड़ी रोंदी,झंगोरू रोंदु,रोंदु कणखिलौं कु भात, 
पीजा-पास्ता पिछ्नै तुम,कन भूळे अपणी जात। 
जू खलौन्दी छै चैंसू,फाणु,रोंदी वा सिलोटी तुम तै,
हे पहाड़ियों ! चुचौं, कन फीरिन ई रोट्टी तुम तैं।  

पिंडाळ्वा पैतुड अर भुज्जी, चर्बरु कंडाळ्यो साग, 
झोळी,पळ्यो बिसरी गये,सिर्फ शाही पनीरौ राग।
परेडू रोंदु,कमोळी रोंदी, रोंदी दैकी परोठी तुम तै,
हे पहाड़ियों ! चुचौं, कन फीरिन ई रोट्टी तुम तैं।  

बसिग्याळी गड्याल अर गाड़ का माछौंकू झोळ,

तुमारु त सोडा,बियर जाणु या बटर चिकन रोळ।      
पीपलु मकौ धारू रोंदु,रोंदी पाणी छ्मोटी तुम तै ,
हे पहाड़ियो ! चुचौं, कन फीरिन ई रोट्टी तुम तैं।